शारीरिक शिक्षा

जासं,रांची:आर्थिकतंगीकेबीचडीएवीहेहलकेएकछात्रआदित्यकुमारसिंहने97.2प्रतिशतलाकरअपनेमाता-पिताकानामरोशनकियाहै।भलेहीवोटॉपरैंकसेकुछकदमपीछेरहगयाहो,लेकिनकमसंसाधनोंकेबीचअपनीलगनवमेहनतसेसफलताकाकीर्तिमानस्थापितकिया।कोरोनामहामारीकेबीचऑनलाइनक्लासकेलिएउनकेपाससिर्फएकमोबाइलकीव्यवस्थाथी,जिसमेंउसेऔरउसकेभाईकोक्लासकरनीहोतीथी।आदित्यबतातेहैंकिशुरुआतमेंयहकाफीकठिनथा।एकहीसमयएकमोबाइलपरदो-दोक्लासकरनामुश्किलथा।घरमेंदोमोबाइलतककीव्यवस्थानहींथी,जिससेपरेशानीबढ़तीगई।

इसबीचबोर्डपरीक्षाकीतिथिनजदीकआरहीथी।इससेपहलेप्रीबोर्डपरीक्षाहुई,जिसमेंउसेअच्छेअंकमिले,हालांकिबोर्डकीलिखितपरीक्षाआयोजितनहींहुई।आदित्यनेबतायाकेकईमहीनेबादउनकेपितासंजयकुमारसिंहनेकिसीतरहएकसेकेंडहैंडमोबाइलकीव्यवस्थाकी,हालांकिउसकास्क्रीनभीटूटामिला।आदित्यनेइसीकेसहारेअपनीपढ़ाईपूरीकी।

आदित्यबतातेहैंकिउनकेपिताएकसाधारणकर्मीहैं,जोएकनिजीसंस्थामेंकामकरतेहैं।वहांउनकीइतनीकमाईनहींहैकिवेनयामोबाइललेसकें।जबकिबोर्डपरीक्षाकोलेकरउनकेपितानेअपनीहिम्मतसेकाफीकुछकियाऔरआदित्यनेउन्हेंनिराशनहींकिया।आगेअबआदित्यइंजीनियरिगकीपढ़ाईकरनाचाहताहै,जिसकेलिएउसनेअभीसेहीतैयारीशुरूकरदीहै।फिलहालआदित्यडीएवीहेहलमेंहीसाइंससंकायमेंअपनानामांकनकरवायाहै।उन्होंनेबतायाकिस्कूलकेप्राचार्यनेउनकीकईबारमददकीहै,लेटफीसदेनेपरलगनेवालेफाइनकोमाफभीकियाहै।

By Daniels