शारीरिक शिक्षा

साहिबगंज,जेएनएन। बिहारवउत्तरप्रदेशमेंगंगानदीसेकोरोनासंक्रमितोंकाशवमिलनेकाखौफपांचसौ-हजार किलोमीटरदूरझारखंडकेसाहिबगंजमेंपहुंचगयाहै।साहिबगंजमेंगंगासेनिकलनेवालीमछलियोंकीमांगअचानककमहोगईहै।पहलेकीतरहमछलियोंकेखरीदारनहींमिलरहेहैं। रेटभीकमहोगयाहै।सामान्यदिनोंमें200रुपयेप्रतिकिलोबिकनेवालीबड़ीमछलीइनदिनों150रुपयेतो150रुपयेप्रतिकिलोबिकनेवालीमछली110रुपयेप्रतिकिलोबिकरहीहै।इसवजहसेकईमछुआरोंनेमछलीमारनाभीछोड़दियाहै।संक्रमणकाखौफइसकदरहैकिनियमितरूपसेगंगानहानेवालेकुछलोगोंनेइनदिनोंउधरकारुखकरनाछोड़दियाहै।

साहिबंगजमेंमछुआरोंका20समूह

झारखंडमेंसिर्फसाहिबगंजजिलेसेहोकरगंगागुजरतीहै।यहांमछुआरोंकाकरीब20समूहसाहिबगंजसेलेकरराजमहलतकगंगामेंनियमितरूपसेमछलीमारनेकाकामकरताहै।कुछलोगव्यक्तिगतरूपसेभीथोड़ाबहुतमछलीमारतेहैं।मार्च-अप्रैलतक15-20क्विंटलमछलीप्रतिदिनगंगासेनिकालीजातीथीलेकिनइनदिनोंवहघटकरचार-पांचक्विंटलपरआगईहै।वैसेमईसेजुलाईतककामहीनामछलियोंकेप्रजननकाहोताहै।इसलिएइसअवधिमेंगंगामेंबड़ाजाललगानेपररोकभीरहतीहै।मछुआरेछोटे-छोटेजालसेमछलीमारतेथेलेकिनमांगमेंकमीआनेसेमछुआरोंनेकईमछुआरोंनेमछलीमारनाछोड़दियाहै।शुक्रवारकोराजमहलमेंकालीघाटपरएकशवहोनेकीसूचनापरगंगानहानेगएकईलोगबिनानहाएलौटगएथे।बादमेंथानाप्रभारीनेजाकरजांच-पड़तालकीतोवहएकमवेशीकानिकला।

गंगामेंमिलनेवालीमछलियां

साहिबगंजसेबहनेवालीगंगानदीमेंछोटीमछलियोंमेंचपरी,फसवा,सुतरी,कौआलोली,चन्ना,पिहोरा,पतला,छोटीझींगावबड़ीमछलियोंमेंरोहू,कतला,मिरगल,बोआरी,फल्ली,टेंगराआदिमिलतीहै।फरक्कासेआगेबढ़नेपरबड़ीझींगामिलतीहै।