शारीरिक शिक्षा

लखनऊ,राजूमिश्र।उत्तरप्रदेशसरकारजल्दहीआठनईचीनीमिलेंस्थापितकरनेजारहीहै।सरकारइसकेलिएपांचहजारकरोड़रुपयेनिवेशभीकरेगी।मुजफ्फरनगरमेंमोरनामिलकेविस्तारीकरणकाकामशुरूहोचुकाहै।योगीसरकारआनेसेपहलेयहांचीनीउद्योगकीहालतबहुतहीखराबहोचुकीथी।कोईनईमिललगानेकेबजायपूर्ववर्तीसरकारोंनेपुरानीमिलोंकोअनुपयोगीबताकरऔने-पौनेदाममेंबेचदिया।तमाममिलेंबंदकरदीगईं।गन्नाकिसानोंकीहालतबदसेबदतरहोगई,लेकिनयोगीसरकारआनेबादचीनीउद्योगकीहालतमेंकाफीसुधारआया।

सरकारनेतमामबंदचीनीमिलोंकोनकेवलशुरूकराया,बल्किउनकीपेराईक्षमतामेंविस्तार,उनकाउन्नयन,किसानोंकेबकायागन्नाभुगतानपरध्यानदिया,यहीकारणहैकिचीनीउद्योगएकबारफिरसेसांसेंलेनेलगाहै।अबसरकारआठऔरचीनीमिलेंलगानेजारहीहै।लेकिन,सवालयहभीहैकिआखिरपहलेसेबंदपड़ींकईचीनीमिलोंकोशुरूकरानेकेबजायसरकारनईमिलेंक्योंलगवानाचाहतीहै।

बंदपड़ीपडरौनाचीनीमिल।संतोषशंकरमिश्र

दरअसलनिजी,सरकारी,सहकारीआदिमिलाकरलगभग157चीनीमिलेंहैं,जिनमेंसेलगभग120चालूहालतमेंहैं,बाकीबंदहैं।जिनक्षेत्रोंकीमिलेंबंदहैं,वहांकेगन्नाकिसानोंकोभारीपरेशानीकासामनाकरनापड़रहाहै,उन्हेंगन्नाक्षेत्रसेबाहरजाकरमिलोंकोदेनापड़रहाहै,इससेनकेवलउनकीलागतबढ़रहीहै,बल्किउनकासमयभीनष्टहोरहाहै।समयसेगन्नानतुलपानेपरउन्हेंऔने-पौनेदामपरगन्नागुड़खांडसारीबनानेवालेकोल्हुओंपरबेचनापड़ताहै,ताकिखेतसमयसेखालीहोजाएऔरवेअगलीफसलकीबोआईकरसकें।

उत्तरप्रदेशमें1935मेंगन्नाविकासविभागविभागस्थापितहुआ।तबसेअबतकइसेलेकरतमामकानून,अधिनियमबनचुकेहैं,समयसमयपरमिलेंभीस्थापितहोतीरहीहैं,लेकिनइसेव्यवस्थितरूपदेनेकाप्रयासकभीनहींहुआ।योगीसरकारनेइसतरफध्यानदेनाशुरूकियाहै।पुरानीचीनीमिलेंखोलीजारहीहैं,उनकाउन्नयनकियाजारहाहै,किसानोंकेजल्दगन्नाभुगतानकामिलोंपरदबावबनायाजारहाहै।भुगतानकेलिएमिलोंकोबैंकोंसेऋणकीसुविधादिलाईजारहीहै।पूर्वाचलमेंगोरखपुरऔरबस्तीमंडलकीतमामचीनीमिलेंबंदहोनेकेबादअबखंडहरहोचुकीहैंतोनिश्चितरूपसेवहांकेगन्नाकिसानोंकीदयनीयहालतकाअंदाजालगायाजासकताहै।हालांकियोगीसरकारनेगोरखपुरकीपिपराइचचीनीमिलकोचालूकराकरजिसइच्छाशक्तिकापरिचयदियाहै,वहवास्तवमेंसराहनीयहै।बाकीबंदमिलोंकोखोलनेकेलिएनिजीक्षेत्रकोप्रोत्साहनदेनेकीजरूरतहै।

पश्चिमीउत्तरप्रदेशकीनजीबाबादचीनीमिलमेंआसवनीप्लांटस्थापितकियागयाहै।मोहिउद्दीनपुर,बागपतएवंरमालाचीनीमिलोंकाक्षमताविस्तारहुआ।इसकेअलावा11निजीचीनीमिलोंमेंगन्नकीउपलब्धताकोदेखतेहुएइनकीपेराईक्षमताबढ़ाईगई।सहकारीक्षेत्रकीसरसावाऔरअनूपशहरमिलोंकीकार्यक्षमतामेंसुधारकेलिएतकनीकीअपग्रेडेशनकिएगए,सहकारीक्षेत्रकीननौता,अनूपशहरमेंपर्यावरणसंरक्षणकेलिएबायो-कंपोस्टआधारितजेडएलडीसंयंत्रस्थापितकिएगए,शामली,बिलारी,अगवानपुरऔरटिकौलामिलोंकीपेराईक्षमताबढ़ाईगईहै।बुढ़वल(बाराबंकी),अलीगढ़,अमरोहा,मुजफ्फरनगरऔरछाताचीनीमिलोंकीक्षमताबढ़ाईजाएगी,जबकिदेवीपाटनऔरगोरखपुरमंडलमेंनईचीनीमिलोंकीस्थापनाकीजाएगी,ताकिकिसानोंकेगन्नेकीपेराईहोसके।चीनीमिलोंकेबंदहोनेकीनौबतनआए,इसकाभीरास्तानिकालागयाहै।जहांपरगन्नेकीउपलब्धताकमहोगीवहांमिलोंमेंएथेनालप्लांटलगाएजाएंगे।

प्रदेशमेंसरकारचीनीउद्योगऔरगन्नाकिसानोंकीबेहतरीकेलिएनियमितरूपसेकार्यकररहीहै।सरकारकादावाहैकिप्रदेशकेगन्नाकिसानोंकोएकलाखकरोड़रुपयेसेअधिककाभुगतानकिया।बसपासरकारकेसमय2007से2012तकउत्तरप्रदेशमें19चीनीमिलेंबंदहुईथींऔरअखिलेशयादवने2012से2017तक10मिलेबंदकरदीथीं।लेकिन,2017मेंयोगीआदित्यनाथनेउत्तरप्रदेशकीबागडोरसंभालतेहीगन्नाकिसानोंकीसमस्याओंकाप्राथमिकताकेआधारपरनिस्तारणशुरूकिया।इससेदमतोड़रहेचीनीउद्योगकोनईऊर्जामिलीहै।साथहीमायूसगन्नाकिसानोंकोआर्थिकमजबूतीमिलीहै।चारसालमें45.44लाखसेअधिकगन्नाकिसानोंकोएकलाख40हजारकरोड़रुपयेकाभुगतानकियागयाहै।यहबसपासरकारसेदोगुनाऔरसपासरकारकेमुकाबलेडेढ़गुनाअधिकहै।अखिलेशसरकारकेकार्यकालमेंगन्नाकिसानोंके10659.42करोड़रुपयेकेबकायेकाभुगतानभीयोगीसरकारनेकिसानोंकोकियाहै।