शारीरिक शिक्षा

नईदिल्लीआकाशमेंदुश्मनकेलड़ाकूविमान,मिसाइलऔरड्रोनकीमौजूदगीभांपनेमेंभारतजल्दहीबड़ीक्षमताहासिलकरनेजारहाहै।एयरबॉर्नअर्लीवॉर्निंगकंट्रोलसिस्टम(AEW&C)वालेविमानकोइसीमहीनेभारतीयवायुसेनामेंशामिलकिएजानेकेआसारहैं।इससिस्टमसेलैसविमानको'आसमानीआंख'कहतेहैं।ऐसाहोतेहीभारतइससिस्टममेंआत्मनिर्भरताकीओरबढ़ेगाऔरयहक्षमतारखनेवालेशीर्षपांचदेशोंमेंशामिलहोजाएगा।सूत्रोंकेमुताबिक,इससिस्टमसेलैसपहलाविमानतैयारहै।इसेपहलीबाररिपब्लिकडेपरेडमेंपब्लिककेसामनेलायागयाथा।दुश्मनकेविमानपरनजररखनेकेलिएइससिस्टममेंकईसेंसरकामकरतेहैं।डिफेंसरिसर्चएंडडिवेलपमेंटऑर्गनाइजेशन(डीआरडीओ)नेइसमेंकईऐसेसिस्टमलगाएहैं,जोदेशमेंहीविकसितकिएगएहैं।भारतनेइससिस्टमकेलिए2008मेंहीब्राजीलसेविमानखरीदेथे।लेकिनकईकारणोंसेकरीब2200करोड़रुपयेकायहप्रॉजेक्टलेटहोताचलागया।दुश्मनकेविमानपरनजररखनेकेलिएAWACS(एयरबोर्नवॉर्निंगएंडकंट्रोलसिस्टम)नामकेएकऔरप्रोग्रामपरकामचलरहाहै।AEW&Cसिस्टममें240डिग्रीकवरेजवालारेडारहै,जबकिAWACSसे400किलोमीटरतक360डिग्रीकवरेजहासिलहोसकेगी।करीब5100करोड़रुपयेकेइसप्रॉजेक्टकेतहतआठविमानोंकोशामिलकरनेकीयोजनाहै।सूत्रोंकाकहनाहैकियहसिस्टम2024तकहीउपलब्धहोपाएगा।फिलहालइसकामकेलिएभारतकेपासफाल्कनसिस्टमहै,जिसमेंरूसीविमानपरइस्रायलीरेडारलगेहैं।यह400किलोमीटरतक360डिग्रीकवरेजदेनेमेंसक्षमहै।इसमामलेमेंभारतफिलहालचीनऔरपाकिस्तानसेकाफीपीछेमानाजाताहै।चीनकेपास20सेज्यादासिस्टमहैं,जबकिपाकिस्तानकेपासआठसिस्टमबताएजातेहैं।चीनकासिस्टम470किलोमीटरकीदूरीतक60सेज्यादाविमानोंकोट्रैककरसकताहै।पाकिस्तानकेपासचारस्वीडिशऔरचारचीनीविमानहैं।