शारीरिक शिक्षा

नईदिल्ली:देशकीविनिर्माणक्षेत्रकीगतिविधियांजूनमेंइसवर्षकीसबसेतेजगतिसेबढ़ीहैं.घरेलूऑर्डरोंऔरनिर्यातऑर्डरोंकीवृद्धिइसकीवजहरही.एकमासिकसर्वेक्षणमेंयहनिष्कर्षसामनेआयाहै.निक्केईइंडियामैन्युफैक्चरिंगपर्चेजिंगमैनेजर्सइंडेक्स(पीएमआई)जूनमाहमें53.1अंकपरपहुंचगया,जोकिदिसंबर2017केबादसेसबसेतेजसुधारदर्शाताहै.मईमेंयह51.2अंकपरथा.यहलगातार11वांमहीनाहैजबविनिर्माणक्षेत्रकापीएमआई50अंकस्तरसेऊपरबनाहुआहै.पीएमआईका50सेऊपररहनाविनिर्माणक्षेत्रमेंविस्तार,जबकि50सेनीचेरहनासंकुचनदर्शाताहै.

आईएचएसमार्किटकीअर्थशास्त्रीऔररिपोर्टकीलेखिकाआशनादोधियानेकहाकिमांगस्थितियोंमेंमजबूतीसेदेशकीविनिर्माणअर्थव्यवस्थामेंअप्रैल-जूनतिमाहीमेंतेजीरही.पिछलेवर्षदिसंबरकेबादसेनएऑर्डरोंमेंतेजीऔरउत्पादनमेंवृद्धिसेऐसासंभवहुआ.’उत्पादनजरूरतोंकोपूराकरनेकेलिएविनिर्माणक्षेत्रकीकंपनियांनेखरीदगतिविधियोंमेंवृद्धिकीहैऔरअधिकलोगोंकोभर्तीकियाहै.

दोधियानेकहाकिरोजगारकेमोर्चेपरसर्वेक्षणबेहतरश्रमबाजारकीओरइशाराकरताहै.नौकरीसृजनकीदरदिसंबर2017केबादसेसबसेतेजीसेबढ़ीहै.लागतमूल्यऔरउत्पादनमूल्यलगातारबढ़रहाहै,जोइशाराकरताहैकिभारतीयरिजर्वबैंकमौद्रिकनीतिकोसख्तकरसकताहै.दोधियानेकहाकिलागतमूल्यमुद्रास्फीतिजुलाई2014केबादसबसेतेजगतिसेबढ़ीहै.यहबताताहैकिकेंद्रीयबैंकपरमौद्रिकनीतिकोमजबूतकरनेकादबावहोसकताहै.

By Cooper