शारीरिक शिक्षा

रांची,[मधुरेशनारायण]।RugdaisVegMuttonofJharkhandमटनऔरवहभीवेज!दरअसलरुगड़ाकोझारखंडमेंइसीरूपमेंजानाजाताहै।झारखंडकेजंगलमेंपायीजानेवालीयेमशरूमकीप्रजातिबेहदस्वादिष्टहोतीहै।इसकास्वादबिलकुलमटनजैसाहीहोताहै।इसमेंप्रोटीनभरपूरमात्रामेंहोताहै,जबकिकैलोरीऔरवसानाममात्रकीहोतीहै।मशरूमप्रजातिकारुगड़ादिखनेमेंछोटेआकारकेआलूकीतरहहोताहै।आममशरूमकेविपरीतयहजमीनकेभीतरपैदाहोताहै।वहभीहरजगहनहींबल्किसालकेवृक्षकेनीचे।बारिशकेमौसममेंजंगलोंमेंसालकेवृक्षकेनीचेपड़जानेवालीदरारोंमेंपानीपड़तेहीइसकापनपनाशुरूहोजाताहै।ग्रामीणइन्हेंएकत्रकरलेतेहैंऔरबेचतेहैं।

मगरअबझारखंडीमशरूमदेश-विदेशमेंअपनीपहचानबनासकेगा।JharkhandFamousFoodबीआइटीमेसराकेबायोतकनीकविभागकेअध्यक्षडॉरमेशचंद्ररूगड़ापरपिछले10सालोंसेरिसर्चकररहेहैं।वोइसेलंबेसमयतकफ्रेशरखनेकीतकनीकपरकाकामकररहेहैं।दरअसल,रूगड़ातीनसेचारदिनोंमेंखराबहोजाताहै।मगरनयीतकनीकसेइसेचारमहीनेतकफ्रेशरखाजासकेगा।अगरहमरूगड़ाकोप्रीजर्वकरसकगेंतोदेशकेदूसरेकोनोंमेंभीइसकानिर्यातकियाजासकेगा।

पेटेंटकीतैयारीमेंबीआइटी

बीआइटीमेसराकेवैज्ञानिकडॉ.रमेशचंद्ररूगड़ाकेकईपहलुओंपररिसर्चकररहेहैं।इसमेंइसकेव्यावसायिकउत्पादनऔरप्रीजर्वेशनमुख्यहै।उन्होंनेबतायाकिअबएकऐसीतकनीककाविकासकियागयाहैजिससेरूगड़ाकोचारमहीनोंतकफ्रेशरखाजासकेगा।बीआइटीकाबायोटेक्निकलविभागइसतकनीककोपेटेंटकरानेकीतैयारीकररहाहै।उन्होंनेइसतकनीककेबारेमेंविस्तारसेजानकारीदेनेमेंफिलहालअसमर्थताजताई।इसकेसाथहीभारतीयकृषिअनुसंधानपरिषदअबइसकीखेतीकीतकनीकविकसितकररहाहैताकिइसकाव्यावसायिकतौरपरउत्पादनकियाजासके।

सालभरकरतेहैंरूगड़ाकाइंतजार

कोकरडिस्टिलरीपुलकेपासरूगड़ाबेचरहीफूलमणितिर्कीबतातीहैंकिवोखूंटीमेंरहतीहैं।सालभरकेवलवनमेंमिलनेवालेउत्पादकोहीशहरमेंलाकरबेचतीहैं।मगरबाकीउत्पादकीअच्छीकीमतनहींमिलतीहै।रूगड़ाबाजारमें300-400रुपयेप्रतिकिलोतकबिकजाताहै।इसलिएसालभरबरसातकेमौसमकाइंतजारकरतेहैं।हमेंपहलेहीअंदाजाहोजाताहैकिजंगलमेंकहांरूगड़ाहोनेवालाहै।हमयेमानतेहैंकिजबबादलगरजताहैतोरूगड़ाहोताहै।

कईरोगोंकीदवाहैरूगड़ा

रूगड़ाकईरोगोंकीदवाभीहै।इसमेंकईऐसेतत्वहैंजोमनुष्योंकेरोगप्रतिरोधकक्षमताकोबढ़ानेमेंमददकरतेहैं।इसमेंउच्चकोटिकाप्रोटीनकेअलावाविटामिनसी,विटामिनबीकांप्लेक्स,राइबोलेनिन,थाइमिन,विटामिनबी12,फोलिकएसिडऔरलवण,कैल्शियम,फास्फोरस,पोटैशियम,तांबाएवंविटामिनडीपायाजाताहैं।इसकेअलावाअस्थमा,कब्जऔरकईचर्मरोगमेंआयुर्वेदिकदवाकेरूपमेंइस्तेमालकरतेहैं।इसकेअलावाकैंसरजैसेघातकरोगोंसेबचानेऔरलडऩेमेंभीरूगड़ाकाफीसहायकसिद्धहुआहै।

कईनामोंसेजानाजाताहै

इसेअंडरग्राउंडमशरूमकेनामसेभीजानाजाताहै।RugdaMushroomरुगड़ाकावैज्ञानिकनामलाइपनपर्डनहै।इसेपफवाल्वभीकहाजाताहै।इसेपुटोऔरपुटकलकेनामसेजानाजाताहै।मशरूमकीप्रजातिहोनेकेबावजूदइसमेंअंतरयहहैकियहजमीनकेअंदरपायाजाताहै।रुगड़ाकी12प्रजातियांहैं।सफेदरंगकारुगड़ासर्वाधिकपौष्टिकमानाजाताहै।रुगड़ामुख्यतयाझारखंडऔरआंशिकतौरपरउत्तराखंड,बंगालऔरओडि़शामेंहोताहै।रुगड़ामेंसामान्यमशरूमसेकहींज्यादापोषकतत्वपाएजातेहैं।

झारखंडीरुगड़ाकीपहुंचबढ़ाएगीबीआइ़टीकीनईतकनीक

हरियालीऔरप्राकृतिकसंपदासेभरपूरझारखंडमेंदर्जनोंऐसीसाग-सब्जियांऔरवनस्पतियांभीउगतीहैैं,जोदूसरेप्रदेशोंमेंयातोनहींउगतींयाकमजगहउपलब्धहैैं।ऐसीहीविशिष्टसब्जियोंमेंरुगड़ाभीशामिलहै।जमीनकेभीतरउगनेवालीछोटेआकारकेआलूकीतरहगोलआकारकीमशरूमप्रजातिकीयहसब्जीपौष्टिकतासेतोभरपूरहैही,स्वादमेंभीलाजवाबहै। मसालेदारसब्जियोंकीश्रेणीमेंआनेवालेरुगड़ाकामीट(मांस)जैसास्पंजीहोनाभीइसकीखासियतहै।यहीवजहहैकिलोगइसेदेसीमटनकेनामसेभीजानतेहैैं।स्वादऐसाकिएकबारजायकाजुबानपरचढ़जायतोफिरउतरतानहीं।रुगड़ाबाजारमें300-400रुपयेप्रतिकिलोकीदरसेबिकजाताहै।कईजगहइसकीकीमतऔरभीऊंचीहै।

चारमहीनेतकतकबनीरहेगीताजगी

झारखंडकीयहखाससब्जीअबदेश-विदेशमेंअपनीपहचानबनासकेगी।बीआइटीमेसराकेबायोटेक्नोलॉजीविभागकेअध्यक्षडॉ.रमेशचंद्रनेलंबेशोधकेबादरुगड़ाकोकाफीदिनोंतकतरोताजारखनेकीतकनीकईजादकीहै।डॉ.रमेशचंद्रबतातेहैैंकिइसतकनीककीमददसेरुगड़ाकोवैश्विकस्तरपरदूर-दूरभेजकरबड़ाबाजारउपलब्धकरायाजासकताहै।इससेरुगड़ाउत्पादकोंकीआयभीबढ़ेगीऔरझारखंडकीब्रांडिंगभीहोगी।दरअसल,रुगड़ातीनसेचारदिनोंमेंखराबहोजाताहै।नईतकनीकसेइसेचारमहीनेतकफ्रेशरखाजासकेगा।अगरहमरुगड़ाकोप्रीजर्वकरसकेंगेतोदेशकेदूसरेकोनोंमेंभीइसकानिर्यातकियाजासकेगा।

पेटेंटकीतैयारीमेंबीआइटी

रुगड़ाकेकईपहलुओंपरबीआइटीमेसराकेवैज्ञानिकडॉ.रमेशचंद्ररिसर्चकररहेहैं।इसमेंइसकेव्यावसायिकउत्पादनऔरप्रिजर्वेशनमुख्यहै।लंबेसमयतकप्रिजर्वरखनेकेलिएडीपफ्रीजिंगऔरकेमिकलप्रोसेसकीविधिकाइसमेंइस्तेमालहोगा।बीआइटीकाबायोटेक्निकलविभागइसतकनीककोपेटेंटकरानेकीतैयारीकररहाहै।उन्होंनेबतायाकिभारतीयकृषिअनुसंधानपरिषदअबइसकीखेतीकीतकनीकविकसितकररहाहैताकिइसकाव्यावसायिकतौरपरउत्पादनकियाजासके।

भरपूरमात्रामेंप्रोटीन,कईरोगोंकीहैदवा

रुगड़ाकईरोगोंकीदवाबनानेमेंभीइस्तेमालमेंलायाजाताहै।इसमेंकईऐसेतत्वहैंजोमनुष्योंकीरोगप्रतिरोधकक्षमताकोबढ़ानेमेंमददकरतेहैं।इसमेंउच्चकोटिके प्रोटीनकेअलावाविटामिनसी,विटामिनबी,

राइबोलेनिन,थाइमिन,विटामिनबी12,फोलिकएसिडऔरलवण,कैल्शियम,फास्फोरस,पोटैशियम,तांबाएवंविटामिनडीपायाजाताहै।

देश-विदेशमेंअपनीपहचानबनाएगाझारखंडकावेजमटन

इसकेअलावाअस्थमा,कब्जऔरकईचर्मरोगमेंआयुर्वेदिकदवाकेरूपमेंभीइस्तेमालमेंलायाआताहै।आममशरूमकेविपरीतयहजमीनकेभीतरपैदाहोताहै।वहभीहरजगहनहीं,बल्किसालकेवृक्षकेनीचे।बारिशकेमौसममेंजंगलोंमेंसालवृक्षकेनीचेपड़जानेवालीदरारोंमेंपानीपड़तेहीइसकापनपनाशुरूहोजाताहै।ग्रामीणइन्हेंएकत्रकरखातेहैंयाफिरबेचतेहैं।

By Craig