शारीरिक शिक्षा

लखनऊ,(दुर्गाशर्मा)। राज्यपुरातत्वनिदेशालय(संस्कृतिविभाग)द्वारा'एडाप्टएहेरिटेज'योजनाकीपहलकीगईहै।इसकेअंतर्गत'रूचिकीअभिव्यक्ति'केतहतधरोहरकोगोदलेनेकेलिएआवेदनआमंत्रितकिएगएहैं।धरोहरगोदलेनेवालेव्यक्तिकोस्मारकमित्रकहाजाएगा।स्मारकमित्रधरोहरसहेजनेकेसाथहीवहांपरअस्थाईनिर्माणवअन्यतरीकोंसेआमदनीभीकरसकेंगे।

राज्यपुरातत्वनिदेशालय(संस्कृतिविभाग)एवंपर्यटनविभागऔरअन्यस्टेकहोल्डरोंकेसहयोगसेस्मारकों/पुरास्थलोंपरउच्चस्तरीयपर्यटकसुविधाएंप्रदानकरनेकेलिएयहपरियोजनालान्चकीगईहै।पुरातत्वनिदेशालयपब्लिकएवंप्राइवेटकार्पोरेशनऔरव्यक्तियोंसेआवेदनस्वीकारकररहाहै।एडाप्टएहेरिटेजयोजनाकेतहतफिलहालप्रदेशकेनौस्मारकों/पुरास्थलोंकोगोदलेनेकेलिएआवेदनकरसकतेहैं।

इनमेंलखनऊकीकोठीगुलिस्तान-ए-इरम,दर्शनविलासकोठी,उत्खननस्थलहुलासखेड़ा,छतरमंजिलएवंफरहतबक्शकोठीशामिलहैं।लखनऊकेअलावामथुराकेगोवर्धनकीछतरी,मिर्जापुरकाचुनारकिला,वाराणसीकागुरुधाममंदिरवकर्दमेश्वरमहादेवमंदिरऔरझांसीकाबरुआसागरकिलाकोगोदलेनेकेलिएआवेदनकियाजासकताहै।

'एडाप्टएहेरिटेज'योजनाकेतहतराज्यपुरातत्वनिदेशालयऔरछतरमंजिलसेआवेदनपत्रलेसकतेहैं।सहायकपुरातत्वअधिकारीडा.राजीवत्रिवेदीनेबतायाकिपब्लिकप्राइवेटपार्टनरशिपमोडकोअपनाकरधरोहरोंकोसहेजनेमेंयोगदानकेलिएयहयोजनाशुरूकीगईहै।इससेसरकारपरबोझतोकमहोगाहीऔरसाथहीपर्यटकोंकोउच्चस्तरीयसुविधाएंभीमिलसकेंगी।स्मारकमित्रकेसाथपांचसालकाएमओयूसाइनहोगा।

स्मारकमित्रोंद्वाराकराएजानेवालेकार्यभीतयकिएगएहैं।समय-समयपरस्मारकसमितिद्वाराउनकार्योंकानिरीक्षणभीकियाजाएगा।स्मारकमित्रगोदलिएगएधरोहरपरअनुरक्षणकाकामनहींकरसकेंगे।स्मारकमित्रकैफेटेरियायाकोईअन्यअस्थाईनिर्माणकरउसस्थलसेआमदनीकरसकेंगे।वहांलेजरशोयाअन्यआयोजनभीकिएजासकेंगे।इसकेअलावाभीधरोहरसेआमदनीकेअन्यविकल्पहोसकतेहैं,लेकिन स्मारकमित्रवहांपरकिसीतरहकाप्रवेशशुल्कनहींलगासकेगा।

स्मारकमित्रद्वारास्मारकोंपरकराएजानेसंबंधीकाम: संकेतक(साइनेज),पेयजल,बिजली,सीवरेज,जनसुविधाएं,वाई-फाई,बेंचएवंकूड़ेदान,प्रकाश,पहुंचमार्गएवंपाथवे,कैफेटेरिया,दिव्यांगकेलिएरैंपएवंव्हीलचेयर,अमानतीसामानघर,रख-रखाव(कूड़ानिस्तारणआदिकाकाम),लाइटएवंसाउंडशो,लैंडस्केपिंग।