शारीरिक शिक्षा

वाराणसी,जेएनएन।कोरोनाकालमेंजूनियरहाईस्कूलस्तरकेबच्चोंकोपठन-पाठनसेजोड़ेरखनेकेलिएबनारसकामोहल्लास्कूलअभियानकाफीसफलमानाजारहाहै।अभियानकेतहतपरिषदीयविद्यालयोंकेशिक्षकगांवमेंजाकरदससे25बच्चोंकीटोलीबनाकरपढ़ारहेहैं।शिक्षकोंकेइसपहलकीअभिभावकभीखूबसराहनाकररहेहैं।बढ़तीलोकप्रियताकोदेखतेहुएअबइसकानामबदलकरमेराघर-मेरास्कूलकरदियागयाहै।वहीं,अबबनारसमाडलकोपूरेसूबेमेंलागूकरनेकीतैयारीचलरहीहै।मुख्यमंत्रीयोगीआदित्यनाथइसकीघोषणाभीकरचुकेहैं।वहीं,जनपदसेभीमोहल्लास्कूलमाडलकीरूपरेखाबेसिकशिक्षाविभागकोप्रेषितकीजाचुकीहै।

कोरोनामहामारीकोदेखतेहुएसभीशैक्षिकसंस्थाओंकोआनलाइनक्लासचलानेकानिर्देशथा।शासनकेनिर्देशपरपरिषदीयविद्यालयोंमेंभीआनलाइनक्लासकीशुरुआतकीगई।काफीप्रयासकेबादशिक्षक40फीसदबच्चोंकोहीआनलाइनक्लाससेजोड़सके।स्मार्टमोबाइलफोनवटीवीनहोनेकेकारणकरीब60फीसदबच्चेआनलाइनक्लाससेनहींजुड़सके।इसेदेखतेहुएअगस्तमेंसेवापुरीब्लाककेशिक्षकोंनेघर-घरजाकरपढ़ानेकेलिएदस-दसबच्चोंकोगोदलेनेकानिर्णयलिया।धीरे-धीरेइसकीशुरुआतअन्यब्लाकोंमेंकीगई।

बच्चोंकीसंख्याबढऩेपरगांवमेंटोलीबनाकरशिक्षकपढ़ानेलगेऔरमोहल्लास्कूलकानामदेदियागया।मोहल्लास्कूलज्यादातरग्रामीणक्षेत्रोंमेंचलरहेथे।इसेदेखतेहुएइसकानामसंशोधितकरमेराघर-मेरास्कूलकरदियागया।जूनियरहाईस्कूलस्तरकेविद्यालयअबभीबंदचलरहेहैं।ऐसेमेंस्कूलकेसमयशिक्षकगांवोंमेंजाकरबच्चोंकोउनकेघरकेआसपासपढ़ारहेहैं।

यहअभियानपूरेदेशमेंलागूकरानेकीभीघोषणाकरचुकेहैं

कारोनाकालमेंस्कूलबंदहोनेसेशिक्षकोंकोबच्चोंकेघरजाकरपढ़ानेकानिर्देशदियागयाहैताकिआर्थिकसंसाधनकेअभावमेंजोबच्चेआनलाइनक्लाससेनहींजुड़पारहेहैं,उन्हेंभीपढ़ायाजासके।मोहल्लास्कूलअभियानकाफीकारगरसाबितहोरहाहै।मुख्यमंत्रीयोगीआदित्यनाथ23अक्टूबरकोशिक्षकोंकोनियुक्तिपत्रदेतेसमययहअभियानपूरेदेशमेंलागूकरानेकीभीघोषणाकरचुकेहैं।

-राकेशसिंह,जिलाबेसिकशिक्षाअधिकारी

एकदिनअंतरालमेंबच्चोंकोपढ़ायाजारहाहै

प्राथमिकविद्यालयोंमेंपढऩेवालेबच्चेकाफीछोटेहैं।ऐसेमेंज्यादातरबच्चोंकोआनलाइनपढ़ाईसमझमेंनहींआरहीथी।इसलिएउनकेगांवमेंहीबच्चोंकोपढ़ानेकानिर्णयलियागया।बच्चोंकीसंख्याधीरे-धीरेबढ़रहीहै।इसेदेखतेहुएअबएकदिनअंतरालमेंबच्चोंकोपढ़ायाजारहाहै।

-शबानाइकबाल,प्रधानाध्यापिकाप्राथमिकविद्यालय(हरदत्तपुर)

अभिभावकोंकाभीभरपूरसहयोगमिलरहाहै

पहलेएकपेड़केनीचेक्लासचलायाजाताथा।अबप्रधानकेसहयोगसेएकबड़ाहालमिलगयाहै।बच्चोंकोइसीहालमेंपढ़ायाजारहाहै।बच्चोंकीसंख्याकोदेखतेहुएदोशिफ्टोंमेंमोहल्लास्कूलचलायाजारहाहै।बच्चेभीकाफीउत्साहितहैं।अभिभावकोंकाभीभरपूरसहयोगमिलरहाहै।

-विभाचौधरी,प्रधानाध्यापिकाप्राथमिकविद्यालय(भुल्लनपुर)

हमलोगोंकीपढ़ानेकीआदतबनीहुईहै

कोरोनाकालमेंस्कूलबंदीकाआदेशबढ़ताहीजारहाथा।जूनियरहाईस्कूलस्तरकेविद्यालयअबभीबंदचलरहेहैं।वहीं,बच्चेसबभूलतेजारहेथे।मोहल्लास्कूलकेमाध्यमसेबच्चोंमेंपढऩे-लिखनेकीआदतअबभीबनीहुईहै।बीएसएकायहकदमस्वागतयोग्यहै।हमलोगोंकीपढ़ानेकीआदतबनीहुईहै।

-रमारूखयैर,अध्यापिका

मेरापुत्रयशकक्षादोमेंपढ़रहाहै

मेरापुत्रयशकक्षादोमेंपढ़रहाहै।स्कूलबंदहोनेसेउसकीपढ़ाईपूरीतरहसेठपचलरहीथी।अबगांवमेंहीपढ़ाईहोरहीहै।बच्चाभीआंखकेसामनेहै।वहीं,अबघरपरभीबच्चापढ़रहाहै।

अबकिताबभीमिलगईहैऔरपढ़ाईभीहोरही

मैंनेअपनीपुत्रीसंजनाकास्कूलमेंदाखिलाइसीवर्षकक्षाएकमेंकरवाईथी।स्कूलबंदकेकारणउसकीपढ़ाईनहींहोपारहीथी।अबकिताबभीमिलगईहैऔरपढ़ाईभीहोरहीहै।

-कमलादेवी,अभिभावक

सरकारकायहप्रयासकाफीअच्छाहै

मोहल्लास्कूलमेंमैंअपनीबच्चीसलोनीकोहरदिनभेजतीहूं।दोमाहमेंवहकाफीकुछसीखगईहै।अबघरपरबैठकरसवालभीलगातीहै।सरकारकायहप्रयासकाफीअच्छाहै।